• Hindi News
  • Business
  • BSE Sensex Stock Market Record Four Phase Latest Update; Large Cap Led With Mid Cap, Small Cap

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुबंईएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

कोरोना वैक्सीन पर लगातार आ रही पॉजिटिव खबरों और भारी निवेश के चलते घरेलू शेयर बाजार में रिकॉर्ड बढ़त की दौड़ जारी है। बुधवार को सेंसेक्स पहली बार 46 हजार के पार बंद हुआ। इंडेक्स मार्च के निचले स्तरों से 77% ऊपर आ गया है। हालांकि, 23 मार्च को देशव्यापी लॉकडाउन के ऐलान के बाद शेयर बाजार में भारी गिरावट दर्ज की गई थी। इंडेक्स 25,981 के स्तर पर बंद हुआ था। BSE डेटा के मुताबिक बाजार की तेजी को मिड कैप, स्मॉल कैप सहित लार्ज कैप सेक्टर ने लीड किया।

मार्च के निचले स्तर से बाजार के अबतक के सफर को चार अलग-अलग फेज में देखें तो बाजार की तेजी को ज्यादा बेहतर तरीके से समझा जा सकता है-

  • फेज1- 23 मार्च से 30 अप्रैल

मार्च के आखिर में देशव्यापी लॉकडाउन के ऐलान कारण बाजार में भारी गिरावट दर्ज की गई। दूसरी ओर दुनियाभर में कोरोना वायरस के बढ़ते मामले से वैश्विक अर्थव्यवस्था में भी सुस्ती रही। हालांकि, 30 अप्रैल तक बाजार के दोनों प्रमुख इंडेक्स निफ्टी और सेंसेक्स में निचले स्तरों से 30-30% की रिकवरी देखी गई। इसमें बड़ी हिस्सेदारी फार्मा (45%), एनर्जी (34%) और इंफ्रा (31%) सेक्टर्स की रही। एनर्जी सेक्टर में तेजी को रिलायंस इंडस्ट्री ने लीड किया। क्योंकि, कंपनी ने जियो प्लेटफॉर्म में हिस्सेदारी बेचना शुरु किया।

  • फेज 2 – 30 अप्रैल से 28 अगस्त

दूसरे फेज में निफ्टी और सेंसेक्स इंडेक्स में 17-17% से अधिक की रिकवरी दर्ज की गई। इसकी बड़ी वजह केंद्र सरकार द्वारा मई महीने में करीबन 21 लाख करोड़ रुपए के राहत पैकेज का ऐलान रही। कुल 6 चरणों में सरकार ने अलग-अलग सेक्टर्स के लिए पैकेज घोषित किया। इस अवधि में स्मॉल कैप में 44%, हाई बिटा यानी लार्ज कैप में 43%, मीडिया में 44%, ऑटो में 37%, मेटल में 36% , IT में 28%, फार्मा में 25%, रियल्टी, सरकारी बैंकों और एनर्जी में 21% की बढ़त दर्ज की गई।

  • फेज 3 – 28 अगस्त से 14 अक्टूबर

तीसरे फेज में बाजार की रफ्तार बेहद सुस्त रही। निफ्टी और सेंसेक्स इंडेक्स में केवल 3-3% की ग्रोथ दर्ज की गई। हालांकि, घरेलू मार्केट में खपत के लिहाज से यह अवधि पिछले कुछ महीने की तुलना में बेहतर रही। इसके अलावा इंडस्ट्रीयल इंडिकेटर्स भी मजबूत रहे। मैन्युफैक्चरिंग PMI अगस्त में 52 और सिंतबर में 56.8 रहा। यानी इस सेक्टर में ग्रोथ रही। रेलवे माल ढुलाई में भी अच्छी बढ़त दर्ज की गई। सितंबर महीने में एक्सपोर्ट ग्रोथ +5.98% रही। लेकिन बढ़ते कोरोना संक्रमण के कारण बाजार की चाल धीमी रही। इसमें IT सेक्टर ने 23% का रिटर्न दिया। जबकि सरकारी बैंकों में भारी बिकवाली देखने को मिली।

  • फेज 4 – 14 अक्टूबर से 9 दिसंबर

रैली के चौथे फेज में बाजार ने कई रिकॉर्ड बनाए। निफ्टी 12% और सेंसेक्स 13% की रिकवरी देखी गई। इसकी बड़ी वजह मजबूत वैश्विक और घरेलू संकेत दोनों है। बाजार में बढ़ता विदेशी निवेश इसकी मुख्य वजह है। अकेले नवंबर माह में विदेशी संस्थागत निवेशकों (FII) का शुद्ध निवेश इस दौरान किसी भी एक महीने के सर्वोच्च स्तर 8.3 अरब डॉलर का रहा। इसके अलावा अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडन की जीत और कोरोना वैक्सीन की खबर से दुनियाभर के बाजारों में तेजी रही।

इस अवधि में सरकार द्वारा प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (PLI) के तहत 1.45 लाख करोड़ रुपए का ऐलान किया गया। दूसरी तिमाही की GDP में रिकवरी और मैन्युफैक्चरिंग, कंस्ट्रक्शन और रोजगार के मोर्चे पर पॉजिटिव ग्रोथ के चलते शेयर बाजार में शानदार तेजी रही। इस दौरान PSU बैंक सेक्टर में 43%, मेटल में 39%, रियल्टी में 33%, हाई बिटा में 31%,बैंकिंग और CPSE में 27%, टेलीकॉम में 22% और मिड कैप में 21% से अधिक की तेजी रही।

बाजार में रिकॉर्ड तेजी

9 दिसंबर को BSE सेंसेक्स पहली बार 46 हजार के पार पहुंचा। इंडेक्स मार्च के निचले स्तर से 77% की बढ़त के साथ 46,103 पर बंद हुआ था। इसके अलावा निफ्टी इंडेक्स भी 77% ऊपर 13,529 पर बंद हुआ था। क्लोजिंग के लिहाज से दोनों इंडेक्स का यह हाइएस्ट लेवल है। इससे पहले मंगलवार को सेंसेक्स 45,608 पर और निफ्टी 13,393 पर बंद हुआ था।

हालांकि, बुधवार को कारोबार के दौरान सेंसेक्स ने 46,164 और निफ्टी ने 13,548 के स्तर को टच किया था। यह दोनों इंडेक्स का ऑलटाइम हाई लेवल है। इसी दौरान BSE में लिस्टेड कंपनियों का टोटल मार्केट कैप 183 लाख करोड़ रुपए के रिकॉर्ड स्तर के पार पहुंच गया था। यह फिलहाल 182.20 लाख करोड़ रुपए है।

जनवरी से अबतक के टॉप सेक्टर्स

जनवरी से अबतक हेल्थ सेक्टर में 57%, IT सेक्टर में 47% और टेक सेक्टर में 37% की बढ़त रही। इसमें टॉप गेनर इंफोसिस (59%), HCL टेक (52%) और विप्रो (37%) रहें। वहीं, बैंकिंग (4.8%), फाइनेंस (3.4%) और ऑयल एंड गैस (3.6%) सेक्टर्स में गिरावट रही। इसमें इंडसइंड बैंक (39%), ONGC (29%) और SBI (19%) के शेयर टॉप लूजर रहे।

निवेशकों को सलाह

चढ़ते बाजार में निवेशकों को ICICI सिक्युरिटीज ने चुनिंदा शेयरों पर खरीदारी की सलाह दी है। लार्ज कैप में SBI लाइफ, भारती एयरटेल, NTPC, अल्ट्राटेक सीमेंट, इंफोसिस, बालकृष्ण इंडस्ट्रीज और अबॉट इंडिया पर निवेश की सलाह है। इसके अलावा मिड और स्मॉल कैप में अक्जो नोबल, ज्योति लैब, क्वैस, प्राइस पाइप्स और फिटिंग्स के शेयरों में निवेश की सलाह है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *