Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • लो टेंपरेचर, फ्रीजर और हाउसहोल्ड फ्रॉस्ट वाले या बिना इन सुविधाओं वाले फ्रिज पर लागू होंगे नए स्टैंडर्ड्स
  • नए BIS स्टैंडर्ड्स से प्रॉडक्ट और उनके स्पेयर पार्ट्स का क्वॉलिटी सर्टिफिकेशन सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी

ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स यानी BIS ने कुछ होम अप्लायंसेज के लिए नए स्टैंडर्ड्स जारी किए हैं। BIS ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा कि अब से इन कंज्यूमर प्रॉडक्ट आइटम्स को बनाने में ब्यूरो के तय नए नियम अपनाए जाएंगे। उसने जिन कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स के लिए नए स्टैंडर्ड्स जारी किए हैं, उनमें लो टेंपरेचर, फ्रीजर और हाउसहोल्ड फ्रॉस्ट वाले या बिना इन सुविधाओं वाले फ्रिज शामिल हैं।

प्रॉडक्ट और स्पेयर पार्ट्स का क्वॉलिटी सर्टिफिकेशन सुनिश्चित होगा

EY के टैक्स पार्टनर अभिषेक जैन ने कहा, “इन BIS स्टैंडर्ड्स से प्रॉडक्ट और उनके स्पेयर पार्ट्स का क्वॉलिटी सर्टिफिकेशन सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी और ये जनवरी से रेफ्रिजरेटर और फ्रीजर पर लागू होंगे। ऐसे प्रॉडक्ट्स बनाने वाले इंडस्ट्री प्लेयर्स को ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स के मानकों के हिसाब से निर्माण करना होगा और उनके लिए जरूरी BIS रजिस्ट्रेशन हासिल करना होगा।”

घरेलू और विदेशी कंपनियों ​​​​​​को हर हाल में पालन करना होगा

BIS के नए मानक जारी करने का मतलब यह हुआ कि हर घरेलू और विदेशी कंपनी को उनका पालन अब हर हाल में करना होगा। नए मानकों का कंज्यूमर गुड्स सेक्टर पर क्या और कितना असर होगा, इसका पता अभी नहीं चल पाया है।

अटके हैं चीन से आए मोबाइल फोन और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक प्रॉडक्ट

ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्ड्स की तरफ से नए मानक तब जारी किए गए हैं जब चीन से इंपोर्ट किए गए मोबाइल फोन और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक प्रॉडक्ट्स को मंजूरी देने में BIS की तरफ से देरी हो रही है। दरअसल, अंतरराष्ट्रीय संवाद एजेंसी रायटर ने 25 नवंबर को एक खबर प्रकाशित की थी जिसके मुताबिक चीन से मंगाए गए एपल आईफोन और शाओमी के डिवाइस BIS की मंजूरी के इंतजार में हैं।

सख्त नियमों से ​​​​​​एपल के नए आईफोन मॉडल के इंपोर्ट में आई सुस्ती

रायटर ने सूत्रों के हवाले से कहा था कि चीन के इंपोर्टेड इलेक्ट्रॉनिक्स गुड्स पर लागू क्वॉलिटी क्लीयरेंस पर सख्त कंट्रोल के चलते एपल के नए आईफोन मॉडल के इंपोर्ट में सुस्ती आई है। इसके चलते शाओमी जैसी कंपनियों के प्रॉडक्ट्स भी अटक गए हैं। ​​​​​



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *