• Hindi News
  • Business
  • Jan’s Consumption And Investment Growth Indicates Faster Recovery For Economy

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • जनवरी में खपत सालाना आधार पर 4% घटी जबकि उसमें दिसंबर में 4.4% की कमी आई थी
  • निवेश में गिरावट की दर बढ़कर 4.7% रही, लेकिन मई के बाद से गिरावट की दर घटने का रुझान
  • खपत और निवेश में गिरावट की रफ्तार कम होना मार्च क्वॉर्टर में GDP ग्रोथ बढ़ने की निशानी

खबर अच्छी है। देश की अर्थव्यवस्था में तेजी से रिकवरी हो रही है। खपत और निवेश के मोर्चे पर ऐसे ही संकेत मिल रहे हैं। दोनों में गिरावट की दर जनवरी में काफी कम रही। इसका जिक्र मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज की इकोस्कोप रिपोर्ट में है। उसके मुताबिक जनवरी में निजी और सरकारी क्षेत्र की खपत में सालाना 4% की कमी आई। दिसंबर में खपत सालाना आधार पर 4.4% घटी थी जबकि जनवरी 2020 में इसमें 3.4% इजाफा हुआ था।

निवेश और खपत में गिरावट कम होना मार्च क्वॉर्टर में GDP ग्रोथ बढ़ने की निशानी

जहां तक निवेश की बात है तो जनवरी में इसमें गिरावट की दर बढ़कर 4.7% हो गई। लेकिन मई के बाद से गिरावट की दर में लगातार कमी का रुझान बना है। निवेश और खपत में गिरावट की रफ्तार कम होना मार्च क्वॉर्टर में GDP ग्रोथ बढ़ने की निशानी हो सकती है। रियल GDP दो तिमाही तक लगातार घटने के बाद दिसंबर क्वॉर्टर में 0.4% बढ़ी थी। चौथे क्वॉर्टर में GDP ग्रोथ ज्यादा रहने पर ही डीग्रोथ को सांख्यिकी मंत्रालय के अनुमान जितना 8% पर रोक जा सकेगा।

MOFSL की इकोस्कोप रिपोर्ट के मुताबिक इकोनॉमी में V शेप वाली रिकवरी हो सकती है

ब्रोकरेज फर्म की इकोस्कोप रिपोर्ट में जनवरी के उन आंकड़ों का जिक्र किया गया है, जिसके मुताबिक इकोनॉमी में V शेप वाली रिकवरी हो सकती है। उसके अपने रियल ग्रॉस वैल्यू ऐडेड वाले इकोनॉमिक एक्टिविटी इंडेक्स में सालाना आधार पर 4.9% की बढ़ोतरी हुई थी। दिसंबर 2020 में इस इंडेक्स में 4.1% जबकि जनवरी 2020 में 4.7% की बढ़ोतरी हुई थी। जनवरी 2021 में तेज ग्रोथ की वजह सर्विसेज सेक्टर और फार्म एक्टिविटी में बढ़ोतरी रही, लेकिन इंडस्ट्रियल एक्टिविटी में थोड़ी कमी आई।

इकोनॉमिक ग्रोथ को बढ़ावा देने के लिए सरकार की तरफ से किए गए खर्च का सपोर्ट

रिपोर्ट के मुताबिक, सर्विसेज सेक्टर को इकोनॉमिक ग्रोथ को बढ़ावा देने के लिए सरकार की तरफ से किए गए खर्च का सपोर्ट मिला। लेकिन इंडस्ट्रियल ग्रोथ कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी में अनुमान के मुताबिक आई गिरावट और मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर की सुस्त ग्रोथ के चलते कमजोर रही। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है, ‘सरकार की तरफ से खर्च बढ़ाए जाने और कृषि उत्पाद बेहतर रहने से जनवरी में इकोनॉमिक एक्टिविटी बढ़ी। शुरुआती संकेतों के मुताबिक ग्रोथ मोमेंटम फरवरी में जारी रह सकती है।’

मार्च क्वॉर्टर में रियल GVA ग्रोथ 3-4% लेकिन पूरे FY21 में -6.2% रह सकती है

फरवरी में डेली ईवे बिल जेनरेशन सबसे ज्यादा 23 लाख यूनिट रहा जबकि डेली पावर कंजम्शन में 4% की बढ़ोतरी हुई। ब्रोकरेज फर्म के मुताबिक, फरवरी-मार्च 2021 में संभवत: बेस सपोर्ट के चलते मार्च क्वॉर्टर में रियल GVA ग्रोथ 3-4% लेकिन पूरे FY21 में -6.2% रह सकती है। टोटल GDP से इनडायरेक्ट टैक्स घटाने से बचने वाली GVA कहलाती है।

फरवरी-मार्च में बड़े सब्सिडी बिल पेमेंट के चलते Q4 में सिकुड़ सकती है रियल GDP

रिपोर्ट के मुताबिक चौथे क्वॉर्टर में रियल GDP असल में सिकुड़ सकती है या बहुत कम रह सकती है। इसकी वजह फरवरी-मार्च में होने वाले बड़े सब्सिडी बिल पेमेंट हैं, जिसका जिक्र बजट 2021 के दस्तावेजों में किया गया था।

खबरें और भी हैं…



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *