Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई25 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
  • अमेजन ने यह निवेश देश के डिजिटल कॉमर्स मार्केट में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए किया
  • अमेजन इंटरनेट सर्विसज का रेवेन्यू वित्त वर्ष 2020 में 57.8 पर्सेंट बढ़कर 4161.6 करोड़ रहा

दिग्गज ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन ने भारतीय मार्केटप्लेस, पेमेंट व होलसेल बिजनेस यूनिट्स में वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान 11,400 करोड़ रुपए का निवेश किया। अमेजन ने यह निवेश देश के डिजिटल कॉमर्स मार्केट में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए किया। कंपनी ने यह निवेश नुकसान होने के बावजूद जारी रखा।

7,014 करोड़ का घाटा हुआ

जानकारी के मुताबिक, अमेजन सेलर सर्विसेज, अमेजन होलसेल (भारत), अमेजन पे (भारत) और अमेजन ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज को वित्त वर्ष 2018-19 में 7014.5 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था जो 2019-20 में बढ़कर 7899 करोड़ रुपए हो गया। अमेजन का फोकस भारतीय ग्राहकों को ई-कॉमर्स और अन्य प्रकार के डिजिटल प्रॉडक्ट्स व सेवाएं आसानी से उपलब्ध होंगी।

सेलर सर्विसेज को 5,849 करोड़ का नुकसान

वित्त वर्ष 2020 में अमेजन सेलर सर्विसेज को 5849 करोड़ रुपए, अमेजन होलसेल (भारत) को 133.2 करोड़, अमेजन पे (भारत) को 1868.5 करोड़ और अमेजन ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज को 48.1 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था। वित्त वर्ष 2018-19 में अमेजन इंटरनेट सर्विसेज को 71.1 करोड़ रुपए का फायदा हुआ था। हालांकि 2019-20 में उसे 20 लाख रुपए का नुकसान हुआ।

अमेजन पे का खर्च 62 पर्सेंट बढ़ा

अमेजन पे का वित्त वर्ष 2019-20 में एक साल पहले के मुकाबले कुल खर्च 62 फीसदी बढ़कर 3234.8 करोड़ रुपए हो गया, जबकि इसी अवधि में अमेजन सेलर सर्विसेज का कुल खर्च 25 फीसदी बढ़कर 16877.1 करोड़ रुपए हो गया। इस साल जनवरी 2020 में अमेजन के संस्थापक जेफ बेजोस ने घोषणा की थी कि वह भारत में 100 करोड़ रुपए का निवेश करेंगे ताकि देश भर के छोटे और मध्यम श्रेणी के कारोबारियों को ऑनलाइन लाया जा सके।

अमेजन भारत में अपनी सभी कारोबारी यूनिट्स के विस्तार के लिए निवेश कर रही है और उसने अमेजन पे के प्रमोशन व विज्ञापनों पर खर्च बढ़ाया है। विज्ञापनों और वितरण खर्च में बढ़ोतरी के चलते अमेजन का घाटा बढ़ा है।

सबसे ज्यादा निवेश सेलर सर्विसेज में

वित्त वर्ष 2019-20 में सबसे अधिक निवेश अमेजन सेलर सर्विसेज को मिला। अमेजन ने इसमें तीन चरणों में 8,408 करोड़ रुपए का निवेश किया और उसका रेवेन्यू वित्त वर्ष 2020 में 42 पर्सेंट बढ़कर 10847.6 करोड़ रुपए हो गया। अमेजन होलसेल को 360 करोड़ रुपए, अमेजन पे को 2705 करोड़ का निवेश प्राप्त हुआ। अमेजन इंडिया के मार्केटप्लेस, पेमेंट्स, ट्रांसपोर्ट और क्लाउड सर्विस यूनिट का रेवेन्यू वित्त वर्ष 2020 में वित्त वर्ष 2019 से 47 पर्सेंट बढ़कर 19275.8 करोड़ रुपए हो गया।

होलसेल के रेवेन्यू में भारी गिरावट

अमेजन होलसेल (भारत) का रेवेन्यू वित्त वर्ष 2020 में 3384.6 करोड़ रुपए रहा जो वित्त वर्ष 2019 में 11231.6 करोड़ रुपए था। अमेजन होलसेल (भारत) ने फाइलिंग में बताया कि सरकार की नई नीतियों के कारण अमेजन होलसेल (इंडिया) के रेवेन्यू में गिरावट आई। अमेजन इंटरनेट सर्विसज का रेवेन्यू वित्त वर्ष 2020 में 57.8 पर्सेंट बढ़कर 4161.6 करोड़, अमेजन पे (भारत) का रेवेन्यू 63.1 पर्सेंट बढ़कर 1315.7 करोड़ और अमेजन ट्रांसपोर्टेशन सर्विसेज का रेवेन्यू 42.7 पर्सेंट बढ़कर 2950.9 करोड़ रुपए हो गया।

फ्लिपकार्ट और जियो से टक्कर

भारतीय ई-कॉमर्स सेक्टर में अमेजन की टक्कर फ्लिपकार्ट से है। उसे रिलायंस इंडस्ट्रीज से भी चुनौतियां का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि ई-कॉमर्स सेक्टर में रिलायंस तेजी से आगे बढ़ रही है। रिलायंस ने जियोमार्ट के साथ ई-कॉमर्स मार्केट में एंट्री की है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *