Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

सितंबर में सरकर ने निर्यात पर पाबंदी लगा दी थी, क्योंकि प्याज की कीमत काफी बढ़ गई थी

  • इस महीने के शुरू में सरकार ने प्याज के आयात नियमों में ढील को डेढ़ महीने बढ़ाकर 31 जनवरी तक कर दिया था
  • आयात में इसलिए ढील दी गई थी ताकि प्याज की घरेलू आपूर्ति बढ़े और कीमत में गिरावट आए

सरकार ने सोमवार को एक जनवरी 2021 के प्रभाव से प्याज की सभी वेराइटी पर से निर्यात पाबंदी हटा ली। सितंबर में सरकर ने निर्यात पर पाबंदी लगा दी थी, क्योंकि प्याज की कीमत काफी बढ़ गई थी। विदेश व्यापार महानिदेशालय (DGFT) ने एक सूचना में कहा कि सभी वेराइटी के प्याज का निर्यात 1 जनवरी 2021 के प्रभाव से खोल दिया गया है।

वाणिज्य मंत्रालय का विभाग DGFT आयात और निर्यात से जुड़े मामले को देखता है। गौरतलब है कि इस महीने के शुरू में सरकार ने प्याज के आयात से जुड़े नियमों में दी गई ढील की अवधि को डेढ़ महीने आगे बढ़ाकर अगले साल 31 जनवरी तक कर दिया था। आयात में इसलिए ढील दी गई थी ताकि प्याज की घरेलू आपूर्ति बढ़े और कीमत में गिरावट आए।

नई फसल आने से घट रही कीमत

देश के कुछ हिस्सों में प्याज की नई फसल आने से उन जगहों पर प्याज की कीमतों में कुछ हद तक गिरावट देखी गई है। उदाहरण के लिए गुरुवार को दिल्ली में प्याज की कीमत 40 रुपए प्रति किलोग्राम भाव के नीचे थी। अक्टूबर में प्याज का भाव 65-70 रुपए प्रति किलोग्राम चल रहा था।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *