• Hindi News
  • Business
  • Iranian Currency At Record Low Sold 315000 Rials For One Dollar In Tehran Unofficial Market

नई दिल्लीएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

ईरान ने 2015 में दुनिया के सबसे शक्तिशाली देशों के साथ जब परमाणु समझौता किया था, तब एक डॉलर की बराबरी 32,000 रियाल कर रहे थे

  • सरकारी एक्सचेंज रेट हालांकि 42,000 रियाल प्रति डॉलर है
  • सरकारी रेट का इस्तेमाल मुख्यत: सब्सिडी वाले फूड्स-मेडिसीन के आयात में होता है

ईरान की मुद्रा रियाल डॉलर मुकाबले लगातार नया निचला स्तर बनाता जा रहा है। तेहरान के अनऑफीशियल मार्केट्स में नोट का कारोबार करने वाली दुकानों पर रविवार को एक डॉलर के मुकाबले 3,15,000 रियाल (ईरान की मुद्रा) बिके। यह रियाल के लिए डॉलर के मुकाबले अब तक का सबसे निचला स्तर है।

ईरान ने 2015 में दुनिया के सबसे शक्तिशाली देशों के साथ जब परमाणु समझौता किया था, तब एक डॉलर की बराबरी 32,000 रियाल कर रहे थे। सरकारी एक्सचेंज रेट हालांकि 42,000 रियाल प्रति डॉलर है। सरकारी रेट का इस्तेमाल मुख्यत: सरकारी सब्सिडी वाले फूड्स और मेडिसीन के आयात में होता है।

एक महीने में प्रति डॉलर 2,62,000 से 3,15,000 पर आया रियाल

पिछले सिर्फ एक महीने में रियाल प्रति डॉलर 2,62,000 से 3,15,000 के स्तर पर आ गया। इस दौरान इसने कई बार रिकॉर्ड निचला स्तर बनाया

12 सितंबर : 2,62,000 रियाल प्रति डॉलर (रिकॉर्ड निचला स्तर)

23 सितंबर : 2,80,000 रियाल प्रति डॉलर (रिकॉर्ड निचला स्तर)

1 अक्टूबर : 3,00,000 रियाल प्रति डॉलर (रिकॉर्ड निचला स्तर)

10 अक्टूबर : 3,04,300 रियाल प्रति डॉलर (रिकॉर्ड निचला स्तर)

11 अक्टूबर : 3,15,000 रियाल प्रति डॉलर (रिकॉर्ड निचला स्तर)

ईरान-अमेरिका संघर्ष में पिस रहा रियाल

ईरान-अमेरिका संघर्ष में रियाल पिस रहा है। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्र्रंप ने 2018 में ईरान और अमेरिका के बीच 2015 में हुए समझौते से बाहर निकलने की एकतरफा घोषणा कर दी थी। इसके साथ ही अमेरिका ने फिर से ईरान पर सख्त आर्थिक पाबंदियां लगा दी थीं।

हाल में अमेरिका ने ईरान के 18 और बैंकों पर प्रतिबंध लगाया

कुछ दिनों पहले ट्र्रंप प्रशासन ने 18 और ईरानियन बैंकों को ब्लैकलिस्ट कर दिया था। इन 18 बैंकों के साथ कारोबारी संबंध रखने वाले अन्य देशों के बैंकों पर जुर्माना लगाने का प्रावधान किया गया है। ये बैंक अब तक पहले की पाबंदियों से बाहर थे। इस तरह से अमेरिका ने ईरान को ग्लोबल फाइनेंशियल सिस्टम से पूरी तरह से काट देने की कोशिश की है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *