• Hindi News
  • Business
  • Indias Recession Exit Gains Momentum Business And Consumer Activities Showed Sharp Improvement In January

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
​​​​​​​अर्थशास्त्रियों के एक सर्वेक्षण के मुताबिक दिसंबर तिमाही की GDP विकास दर साल-दर-साल आधार पर 0.5% रहने की उम्मीद है - Dainik Bhaskar

​​​​​​​अर्थशास्त्रियों के एक सर्वेक्षण के मुताबिक दिसंबर तिमाही की GDP विकास दर साल-दर-साल आधार पर 0.5% रहने की उम्मीद है

  • शुक्रवार को अक्टूबर-दिसंबर 2020 तिमाही के लिए GDP के आंकड़े जारी होंगे
  • माना जा रहा है कि दिसंबर तिमाही में अर्थव्यवस्था मंदी से बाहर निकल चुकी होगी

भारतीय अर्थव्यवस्था में इस साल पिछले साल दर्ज की गई भारी गिरावट से बाहर निकलने का संकेत दिख रहा है। जनवरी में कारोबारी और उपभोक्ता गतिविधियों में तेज सुधार देखने को मिली है। ब्लूमबर्ग के 8 पसंदीदा इंडिकेटर्स में से 2 का प्रदर्शन पिछले महीने बेहतर रहा। 5 इंडिकेटर्स अपने पुराने स्तर पर कायम रहे, जबकि सिर्फ एक में गिरावट आई।

अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में रिकवरी शुरू हो गई थी और जनवरी की रीडिंग नई तिमाही की बेहतर शुरुआत की ओर इशारा कर रही है। शुक्रवार को GDP के बेहतर आंकड़े आने की उम्मीद है। माना जा रहा है कि अक्टूबर-दिसंबर 2020 तिमाही में अर्थव्यवस्था मंदी से बाहर निकल चुकी होगी। ब्लूमबर्ग के सर्वेक्षण के मुताबिक दिसंबर तिमाही की GDP विकास दर साल-दर-साल आधार पर 0.5% रहने की उम्मीद है।

जनवरी में सर्विस सेक्टर में लगातार चौथे महीने तेजी

जनवरी में सर्विस सेक्टर में लगातार चौथे महीने तेजी दर्ज की गई। मार्किट इंडिया सर्विसेज पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) जनवरी में 52.8 पर रहा, जो दिसंबर में 52.3 पर था। PMI की रीडिंग 50 से ऊपर होने का मतलब यह है कि आर्थिक गतिविधियों में तेजी आई है।

मैन्यूफैक्चरिंग उत्पादन 3 महीने में सर्वाधिक तेजी से बढ़ा

मैन्यूफैक्चरिंग गतिविधियों में भी जनवरी में तेजी आई है। ज्यादा बिक्री और निर्यात के बड़े ठेके की बदौलत तीन महीनों में उत्पादन सबसे ज्यादा तेजी से बढ़ा। हालांकि चिंता की बात यह है कि इनपुट और आउटपुट प्राइस पर दबाव थोड़ा बढ़ा है। यह आगामी महीनों में महंगाई को घटने से रोक सकता है। पिछले महीने निर्यात का प्रदर्शन भी अच्छा रहा। इंजीनियरिंग गुड्स, जेम्स एंड ज्वेलरी, आयरन ओर और टेक्सटाइल्स का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा।

यात्री वाहनों की बिक्री जनवरी में 11.4% बढ़ी

यात्री वाहनों की बिक्री जनवरी में साल-दर-साल आधार पर 11.4% बढ़ी। यात्री वाहनों की बिक्री से बाजार में मांग का पता चलता है। टू-व्हीलर्स और युटिलिटी व्हीकल्स की मांग मजबूत रही। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के इस माह के एक सर्वेक्षण में उपभोक्ताओं ने कहा कि मौजूदा आर्थिक स्थिति नवंबर के मुकाबले बेहतर है और आने वाले वर्ष में उनकी स्थिति में बेहतर हो सकती है।

कर्ज में करीब 6.5% की बढ़ोतरी हुई

लोन की मांग जनवरी में थोड़ी अच्छी रही। RBI के आंकड़े बताते हैं कि कर्ज में साल-दर-साल आधार पर करीब 6.5% की बढ़ोतरी हुई। लिक्विडिटी की स्थिति में दिसंबर के मुकाबले ज्यादा बदलाव नहीं आया है। दिसंबर में एडवांस टैक्स पेमेंट के कारण बाजार में नकदी की किल्लत बनी रहती है।

औद्योगिक उत्पादन दिसंबर में 1% बढ़ा

दिसंबर में औद्योगिक उत्पादन साल-दर-साल आधार पर 1% बढ़ा। पूंजीगत वस्तुओं का उत्पादन 0.6% बढ़ा। अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में इंफ्रास्ट्र्रक्चर गुड्स और मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर में उत्साहवर्धक बढ़ोतरी दर्ज की गई। औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (IIP) में 40% योगदान करने वाले इंफ्रास्ट्रक्चर उद्योगों का उत्पादन दिसंबर में साल-दर-साल आधार पर 1.3% गिरा। यह नवंबर की 2.6% गिरावट के मुकाबले कम है।



Source link

By Raj

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *